उत्तराखंड में रिवर राफ्टिंग व पैराग्लाइंडिंग पर रोक

वार्ता, नैनीताल

उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने राज्य में साहसिक पर्यटन के तहत संचालित होने वाली गतिविधियों पर रोक लगाने के आदेश दिये हैं। अदालत के इस फैसले से साहसिक पर्यटन व जल क्रीडाओं जैसे रिवर राफ्टिंग, पैराग्लाइडिंग और अन्य वाटर स्पोट्र्स पर रोक लग गयी है। अदालत ने यह भी निर्देश दिये कि सरकार साहसिक पर्यटन व जल क्रीड़ाओं के लिये जल्द नीति व कानून बनाये।

वरिष्ठ न्यायाधीश न्यायमूर्ति राजीव शर्मा व न्यायमूर्ति लोकपाल सिंह की खंडपीठ ने ऋषिकेश के सामाजिक कार्यकर्ता हरिओम कश्यप की जनहित याचिका की सुनवाई के बाद यह निर्देश दिये। याचिकाकर्ता की ओर से कहा गया है कि गंगा नदी में रिवर राफ्टिंग करायी जा रही है। इसके लिये सरकार ने न तो कोई नीति बनायी है और न ही कोई नियमावली बनायी है।

इससे गंगा की पवित्रता व धार्मिक महत्व को ठेस पहुंच रही है। हालांकि सरकार की ओर से कहा गया कि सरकार ने कानून बनाने की प्रक्रिया शुरू कर दी है।