आप के खिलाफ भाजपा का जवाबी धरना

आईएएनएस, नई दिल्ली

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने बुधवार को उपराज्यपाल अनिल बैजल के आवास पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उनके मंत्रियों के धरने के जवाब में धरना शुरू कर दिया। मध्य दिल्ली में आईटीओ से अपने पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ जुलूस लेकर सचिवालय में मुख्यमंत्री कार्यालय तक जा रहे भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष और सांसद मनोज तिवारी ने संवाददाताओं को बताया, "केजरीवाल दिल्ली के लोगों को धोखा दे रहे हैं। उन्होंने जनता को 2014 में धोखा दिया फिर 2015 में दिया और अब फिर वे दिल्ली की जनता से किए अपने वादों को नकार कर उन्हें धोखा दे रहे हैं।"

मुख्यमंत्री कार्यालय के प्रतीक्षा कक्ष में चल रहे धरने में पश्चिम दिल्ली के सांसद प्रवेश सिंह साहिब वर्मा, विधानसभा में विपक्ष के नेता तथा भाजपा नेता विजेंद्र गुप्ता, विधायक जगदीश प्रधान, मनजिंदर सिरसा और आम आदमी पार्टी (आप) के निलंबित विधायक कपिल मिश्रा भी बैठे हुए हैं।

मिश्रा ने ट्वीट किया, "हमारी तीन मांगे हैं -केजरीवाल अपना नाटक खत्म करें, काम पर लौटें और दिल्ली की जनता को जलापूर्ति करें।"

जुलूस में भाजपा के सैंकड़ों कार्यकर्ता तख्तियां पकड़ कर 'केजरीवाल नाटक बंद करो' जैसे नारे लगा रहे थे।

उपराज्यपाल आवास के अंदर सोमवार शाम से धरना दे रहे केजरीवाल, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन और श्रम मंत्री गोपाल राय की निंदा करते हुए तिवारी ने कहा, "आप सरकार द्वारा राज्य में पानी और बिजली आपूर्ति की समस्या को नजरंदाज करने के कारण हमारा प्रदर्शन केजरीवाल और उनकी टीम के खिलाफ है।"

चारों आप नेता उपराज्यपाल के आवास में सोमवार शाम से अपनी तीन मांगों को लेकर धरने पर हैं, जिनमें हड़ताल पर चल रहे आईएएस अधिकारियों को काम पर लौटने का निर्देश देने की मांग भी शामिल है।

मुख्यमंत्री ने अपनी सरकार के उस प्रस्ताव को भी मंजूरी देने की मांग की है, जिसमें गरीबों को उनके घरों पर राशन पहुंचाने के लिए कहा गया है।

सोमवार को इसके बाद राज भवन ने एक बयान जारी कर इस धरना को अनुचित बताया था।

केजरीवाल पर हमला करते हुए भाजपा नेता ने कहा, "वे वातानुकूलित कमरे में धरना दे रहे हैं, लेकिन हमारे सांसद, विधायक और सभासद दिल्ली की जनता के लिए चिलचिलाती धूप में धरना दे रहे हैं।"

उन्होंने आरोप लगाया कि आप नेता नहीं जानते कि सरकार कैसे चलाई जाती है। तिवारी ने कहा, "आप लोग वादे क्यों करते हो अगर उन्हें पूरा नहीं कर सकते? वे सिर्फ धरना करना जानते हैं। उन्हें इस्तीफा देकर चले जाना चाहिए।"