अलविदा गोल्ड कोस्ट, बर्मिघम में फिर मिलेंगे

वार्ता, गोल्ड कोस्ट

संगीत और सुरों की स्वर लहरियों, खिलाड़ियों के भावनाओं के सैलाब, जगमगाती रोशनी और भविष्य की नयी उम्मीदों के साथ 21वें गोल्ड कोस्ट राष्ट्रंमंडल खेलों का रविवार को भव्य समापन हो गया। गोल्ड कोस्ट में खेलों के सफल आयोजन के बाद खिलाड़ी इंग्लैंड के बर्मिंघम में 2022 में फिर मिलने के वादे के साथ ऑस्ट्रेलिया से विदा हो गए।

समापन समारोह का समापन आसमान पर खूबसूरत रंग बिरंगी आतिशबाजी के साथ हुआ। आस्ट्रेलिया 80 स्वर्ण सहित 198 पदक जीतकर पहले, इंग्लैंड 45 स्वर्ण सहित 136 पदक जीतकर दूसरे और भारत ने 26 स्वर्ण, 20 रजत और 20 कांस्य सहित कुल 66 पदक जीतकर तालिका में तीसरे स्थान पर रहा।

राष्ट्रमंडल खेल महासंघ के अध्यक्ष लुइस मार्टिन ने आयोजकों, वालंटियर्स, सरकार के विभिन्न स्तर के अधिकारियों, खिलाड़ियों और प्रायोजकों को इन खेलों को सफल बनाने के लिए धन्यवाद दिया और फिर अगले मेजबान को ध्वज सौंप दिया। इंग्लैंड का शहर बर्मिंघम अगले खेलों का मेजबान है। डरबन को अगले खेलों की मेजबानी करनी थी लेकिन राष्ट्रमंडल खेल महासंघ की समय सीमा पूरी न कर पाने के कारण डरबन से ये खेल छीनकर बर्मिंघम को दे दिए गए।

मार्टिन ने बर्मिंघम के प्रतिनिधियों को ध्वज सौंपने से पहले कहा, गोल्ड कोस्ट को बधाई, क्वींसलैंड को बधाई व ऑस्ट्रेलिया को बधाई। आपने सही मायनों में लाजवाब खेलों का आयोजन किया।

11 दिन पहले मैंने एथलीटों से कहा था कि आप इस मौके का फायदा उठाओ, अपने लिए एक इतिहास बनाओ और अपने सपनों को पूरा करो। मैं आप सभी एथलीटों का धन्यवाद करता हूं। उन्होंने कहा, ये बेहद शानदार खेल रहे। आपने राष्ट्रमंडल इतिहास में एक नया अध्याय लिखा। राष्ट्रमंडल खेल परिवार की तरफ से गोल्ड कोस्ट, सभी एथलीटों और बाकी सभी लोगों का दिल से धन्यवाद।